व्यायाम से बच्चों के मस्तिष्क पर होने वाले लाभ


नियमित व्यायाम और शारीरिक गतिविधियों से हमारे शरीर को बहुत से लाभ होते हैं। ये ना केवल शरीर को फिट रखता है बल्कि संपूर्ण व्यक्तित्व के विकास और मस्तिष्क को सुचारू रूप से चलाने में भी सहायक होता है।

साथ ही नियमित व्यायाम बच्चों को मोटापे तथा अतिरिक्त वसा से बचाता है और मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है इससे बच्चों में एकाग्रता भी बढ़ती है।




व्यायाम से बच्चों को होने वाले लाभ कुछ इस प्रकार हैं:

1) मस्तिष्क में रक्त प्रवाह बढ़ाने में :

रक्त मस्तिष्क में ग्लूकोस व ऑक्सीजन भेजता है जो मस्तिष्क द्वारा ध्यान केंद्रित करने व सजगता के लिए आवश्यक है। अनेक अध्ययनों से पता चला है कि 6 माह तक प्रतिदिन व्यायाम करने से रक्त प्रवाह 30 से 40 प्रतिशत तक बढ़ जाता है।

2) रचनात्मकता की वृद्धि में:

शारीरिक क्रियाएं मस्तिष्क में रचनात्मक विचारों को उत्पन्न करती हैं जिससे बच्चा साधारण चीजों से हटकर सोचता है ।व्यायाम से मस्तिष्क को ऊर्जा प्राप्त होती है जो कार्य करने की क्षमता को बढ़ाती है।

3) वेस्टीब्युलर सिस्टम को मजबूत बनाने में:

  Vestibular system एक संवेदी प्रणाली (sensory system) है जो संतुलन और स्थानिक अभिविन्यास प्रदान करने के लिए आवश्यक है। व्यायाम से स्थानीय जागरूकता(spatial awareness) व मानसिक सजगता(mental alertness) को बढ़ाने में मदद मिलती है। रस्सी कूदना जैसे कई अन्य संतुलन वाले व्यायाम  vestibular system को मजबूत बनाने में सहायक है।

4) तनाव को कम करने में:

 बच्चों में चिंता व तनाव को दूर करने का सर्वोत्तम उपाय व्यायाम है क्योंकि बच्चे अक्सर इन परेशानियों का सामना करते हैं । व्यायाम करने से नींद अच्छी आती है जो आपके बच्चे के संपूर्ण स्वास्थ्य के विकास में सहायक है।

5) आत्मविश्वास व महत्वाकांक्षाओ को बढ़ाने में:

नियमित रूप से व्यायाम करने से सकारात्मकता का विकास होता है जिससे बच्चों में शक्ति व सहनशीलता बढ़ती है जो आपके बच्चे में आत्मविश्वास बढ़ाती है और वह किसी भी शारीरिक चुनौती का सामना आसानी से कर पता हैं।

6) मस्तिष्क की कोशिकाओं के विकास में:

व्यायाम से मस्तिष्क क्षेत्र में नई रक्त कोशिकाओं का निर्माण होता है जिससे अल्पकालिक स्मृति(short term memory) में सुधार होता है वह बच्चे जल्दी प्रतिक्रिया देते हैं और उनमें  रचनात्मकता का स्तर बढ़ता है।



बच्चों की व्यायाम में रुचि बढ़ाने के लिए माता पिता को स्वयं सक्रिय होना चाहिए जिससे वे बच्चों के प्रेरणास्रोत बन सकें और उदाहरण स्थापित कर सकें।


माता-पिता को बच्चों के टीवी, वीडियो गेम और कंप्यूटर देखने का समय कम करना चाहिए। इस समय में माता-पिता बच्चों के साथ डांस, तैराकी, साइकिल चलाना और विभिन्न प्रकार के आउटडोर खेल जैसे बैडमिंटन, फुटबॉल, टेनिस आदि खेल सकते हैं। जिससे व्यायाम मजेदार बनता है।माता-पिता को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बच्चा प्रतिदिन एक घंटा बाहर जरूर खेलें।


No comments:

Post a Comment