बच्चों को पौष्टिक भोजन खिलाने से लाभ

🥗 बच्चों को पौष्टिक भोजन से मिलने वाले लाभ

स्वस्थ्य शरीर में ही स्वस्थ्य मस्तिष्क का निवास होता है। पोषक तत्वों से भरपूर भोजन से हमारा शरीर स्वस्थ्य रहता है। बच्चों को वयस्कों की तुलना में पोषक तत्वों की आवश्यकता अधिक होती है। पोषक तत्व बच्चों को बढ़ने में मदद करते हैं और उनकी वृद्धि व विकास के लिए आवश्यक होते हैं। पौष्टिक भोजन और मनोरंजनपूर्ण बाहरी गतिविधियां बच्चों की ऊर्जा को बढ़ाती हैं ,उनका दिमाग तेज करती हैं और मन को शांत रखने में भी सहायक हैं।


 शोध बताते हैं कि बच्चों में शुरूवात से ही पौष्टिक भोजन करने की आदत डालनी चाहिए। जिससे जीवन भर यह अच्छी आदतें उनके साथ रहें और वह हमेशा स्वस्थ्य रहें। आजकल बच्चे घर के खाने की जगह बाहर का तेल -मसाले वाला खाना ज्यादा पसंद करते हैं जो कि उनकी सेहत पर बुरा असर डालता है। खराब पोषण से मोटापा, डायबिटीज व उच्च रक्तचाप होने का खतरा बढ़ जाता है।

 संतुलित आहार व पौष्टिक भोजन बच्चों को इन बीमारियों से दूर रखता है। पर्याप्त पोषक तत्वों से युक्त भोजन मोटापा, कमजोर हड्डियों से बचने में सहायता करते हैं और इससे बच्चे पूरी क्षमता के साथ विकास करते हैं।
बढ़ते बच्चों के लिए जरूरी पोषक तत्व बहुत आवश्यक है जो कुछ इस प्रकार हैं:-


आयरन:-  आयरन शरीर में खून के निर्माण में सहायक है। भारत में अधिकतर बच्चों में खराब पोषण के कारण खून की कमी हो जाती है। आयरन ध्यान व एकाग्रता सुधारने में भी सहायक है। हरी पत्तेदार सब्जियों, अंडा ,मछली आदि में आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है।


 प्रोटीन :- ये शरीर में ऊतकों के बनने, उनके रखरखाव व मरम्मत करने में सहायक है। दूध, डेरी प्रोडक्ट दाले, अंडे, मछली, मांस आदि में प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। बढ़ते बच्चों के लिए प्रोटीन अत्यंत आवश्यक होता है। 

कार्बोहाइड्रेट व वसा:- वसा व कार्बोहाइड्रेट हमारे शरीर में कैलोरी व ऊर्जा के मुख्य स्रोत हैं। आलू, चावल, मक्का, गेहूं, शहद, गन्ना आदि में कार्बोहाइड्रेट व घी, मक्खन ,बादाम, पनीर, सोयाबीन आदि में वसा भरपूर मात्रा में पाया जाती है। 

खनिज और विटामिन:-  बच्चों के शरीर की वृद्धि व विकास के लिए खनिज व विटामिन आवश्यक हैं। कैल्शियम से बच्चों की हड्डियां व दांत मज़बूत बनते हैं। फल, हरी पत्तेदार सब्जियों में इनकी भरपूर मात्रा पाई जाती है। ये बच्चों की त्वचा स्वस्थ्य रखते हैं वह उनकी अच्छी वृद्धि व विकास के लिए सहायक हैं।

फल व सब्जियां :- सब्जियों में भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। फलों व सब्जियों में विटामिन ए ,विटामिन सी, मैग्नीशियम ,पोटेशियम और अन्य सूक्ष्म पोषक तत्व की अधिकता होती है। फलों व सब्जियों में मिलने वाला एंटीऑक्सीडेंट बच्चों के शरीर को बीमारियों से लड़ने में मदद करता है इसलिए बच्चों के आहार में फलों व सब्जियों को शामिल करना जरूरी है।

आप फलों व सब्जियों की स्मूदी बनाकर उन्हें अलग-अलग तरह के आकार में काटकर बच्चों को खिला सकती हैं। ऐसा करने से वे बिना नखरे किए खुशी-खुशी फल व सब्जियां खा लेते हैं।


 ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप अपने बच्चों के खाने में पौष्टिक तत्वों को शामिल कर सकते हैं। पौष्टिक भोजन बच्चों के लिए बहुत फायदेमंद है इससे बच्चों को होने वाले लाभ निम्न है:-

1- पौष्टिक भोजन स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। इससे शरीर मजबूत होता है।

 2- पौष्टिक आहार शरीर में हड्डियों को मज़बूत बनाने में सहायक है।

 3- पौष्टिक भोजन से बच्चों का शरीर स्वस्थ्य रहता है और उनका मस्तिष्क भी तेज होता है।

 4- पौष्टिक आहार से बच्चों का वजन नियंत्रित रहता है और वह मोटापे से दूर रहते हैं।

5- यह बच्चों में सक्रियता व सतर्कता की वृद्धि में सहायक है।

6- पौष्टिक भोजन बच्चों को अनेक प्रकार की बीमारियों से दूर रखने में सहायक है हरी सब्जियां व फल में उपस्थित फाइबर बच्चों को मोटापा ,कैंसर व हृदय रोग जैसी गंभीर शारीरिक समस्याओं से बचाव करता है। 

7- यह बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को सही रखता है और उन्हें चिंता, तनाव आदि मानसिक समस्याओं से दूर रखता है।


 बच्चों के संपूर्ण विकास के लिए पौष्टिक व संतुलित आहार बहुत आवश्यक है इसलिए शुरूवती समय से ही बच्चों में पौष्टिक भोजन खाने की आदत डालनी चाहिए जिससे उनका शारीरिक व मानसिक विकास उचित प्रकार से हो सके।

No comments:

Post a Comment