बच्चों के लिए दूध पीना क्यूँ ज़रूरी है ?

माता पिता अक्सर अपने बच्चे को लेकर चिंतित रहते हैं ।बच्चों के सही विकास के लिए उनके शरीर में कैल्शियम की उचित मात्रा का पहुंचना बहुत ही आवश्यक होता है। बच्चों को प्रतिदिन लगभग 700 मिलीग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है और इसके लिए दूध एक उचित स्रोत है।


बच्चों के लिए दूध क्यों ज़रूरी है?

दूध आपके बच्चे के विकास और वृद्धि के लिए बहुत ही आवश्यक है। दूध एक संपूर्ण आहार है जो आपके बच्चों की हड्डियों को स्वस्थ और मज़बूत बनाता है, साथ ही बच्चों की वृद्धि में भी सहायक होता है ।

दूध पीने से बच्चों को बहुत से लाभ होते हैं जो कुछ इस प्रकार हैं:-

1- कैल्शियम की प्रचुर मात्रा:-

दूध के कैल्शियम का बहुत अच्छा स्रोत है जिससे बच्चों की हड्डियां मज़बूत व स्वस्थ रहती हैं । साथ ही सिर दर्द ,माइग्रेन अटैक आदि कैल्शियम की कमी से होने वाले रोगों से भी बचाव होता है। दूध से शरीर में कैल्शियम की प्रतिदिन की आवश्यकता पूरी होती है जिससे रक्त स्कंदन, हार्मोन के स्राव, पेशियों के रखरखाव में मदद मिलती है और तंत्रिका तंत्र भी सुचारू रूप से कार्य करता है।

2- विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा:-

पाश्चुरीकरण(fortified) दूध में विटामिन डी की भरपूर मात्रा होती है जो हड्डियों में वृद्धि करने के साथ ही सूजन आदि समस्याओं को कम करता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत बनाता है।विटामिन डी की कमी से बच्चों में रिकेट्स व वयस्कों में ऑस्टियोपोरोसिस नामक रोग हो जाता है।

3- दांत बनाएं मज़बूत :-

दूध में कैल्शियम व फास्फोरस प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जिससे बच्चों के दांत मज़बूत होते हैं ।दूध में calcium नामक आवश्यक प्रोटीन पाया जाता है जो दाँतो में इनेमल बनाने में सहायक होता है।

4- हड्डियां बनाएं मज़बूत :-

दूध में उपस्थित कैल्शियम बच्चों की हड्डियों को मज़बूत  व स्वस्थ बनाता है।

5- दूध में कैल्शियम की प्रचुर मात्रा ह्रदय स्वास्थ्य को और बेहतर बनाती है।

6- दूध में उपस्थित आवश्यक मिनरल और विटामिन आपके बच्चे को सक्रिय ,स्वस्थ व मज़बूत बनाते हैं। 
दूध में उपस्थित कार्बोहाइड्रेट बच्चों को उचित मात्रा में ऊर्जा प्रदान करता है। 
इसमें उपस्थित प्रोटीन शरीर की मरम्मत व वृद्धि में सहायक है ।दूध में विटामिन बी, विटामिन ए राइबोफ्लेविन, नियासिन, पोटैशियम आदि प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं ।

बच्चों के लिए दूध की कितनी मात्रा उचित है यह जानना भी आवश्यक है। बच्चों को प्रतिदिन कितना दूध पीना चाहिए यह उनकी आयु ,लंबाई आदि कारकों पर निर्भर करता है। जन्म से 1 वर्ष की आयु तक बच्चों के लिए मां का दूध उत्तम होता है। 1 वर्ष से अधिक के बच्चों को गाय का दूध दिया जा सकता है। आयु बढ़ने के साथ ही आवश्यकतानुसार दूध की मात्रा बढ़ाई जाती है ।बच्चों को उनकी आयु के अनुसार प्रतिदिन उचित मात्रा में कैल्शियम की आवश्यकता होती है-
     6 माह से कम - 200 मिलीग्राम
     6 से 12 माह - 260 मिलीग्राम
     1 से 3 वर्ष - 700 मिलीग्राम
     4 से 8 वर्ष - 1000 मिलीग्राम
     9 से 18 वर्ष - 1300 मिली ग्राम


शरीर में कैल्शियम की उचित मात्रा पहुंचाने के लिए दूध एक उत्तम आहार है, परंतु बच्चे दूध पीने से मना करें तो आपको कुछ बातें ध्यान में रखनी चाहिए-

1- जब बच्चे सही मात्रा में दूध का सेवन ना करें तो आप कोशिश करें कि उन्हें नाश्ते में दलिया आदि दें ।

 2-आप उन्हें दूध से बनी आइसक्रीम ,पुडिंग ,कस्टर्ड आदि मिठाई खाने के बाद दे सकती हैं।

 3-उन्हें ज्यादा मात्रा में फलों का जूस ना दें , हो सकता है इससे बच्चे का दूध पीने का मन ना हो।

4- बच्चों को दही, मक्खन, टोफू, हरी पत्तेदार सब्जियां दें । इनमें कैल्शियम की भरपूर मात्रा होती है ।यह आपके बच्चे के लिए दूध के विकल्प के रूप में कार्य करेंगे।

दूध आपके बच्चे की वृद्धि के लिए बहुत ही आवश्यक है लेकिन यदि बच्चे दूध पीने से मना करें तो उन्हें ऐसी स्थिति में कुछ अन्य चीजें है जो आप बच्चों को दे सकती हैं, दूध के विकल्प के रूप में।

यदि अब आपका बच्चा दूध पीने से मना भी करता है तो आप ये चीजों को बच्चों को दे सकती हैं ,जिससे उनके शरीर को हड्डियों के विकास एवं वृद्धि के लिए और स्वस्थ दांतो के लिए पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम मिलेगा।


दही और मक्खन

अन्य डेयरी पदार्थों की तरह दही और मक्खन में भी भरपूर मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है ।आप आसानी से इसे अपने बच्चों के भोजन में शामिल कर सकती हैं। बच्चे को दही भोजन के बाद या फलों के साथ देना अच्छा रहता है। ग्रीक योगर्ट में कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है। आप बच्चों को मक्खन ब्रेड सैंडविच पास्ता अंडे आदि के साथ दे सकती हैं।

हरी पत्तेदार सब्जियां

हरी पत्तेदार सब्जियां बच्चों के लिए बहुत लाभदायक होती हैं। इसमें कैल्शियम ,फास्फोरस जिंक आदि प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।पालक, ब्रोकली आदि हरी सब्जियों में कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है। आप को बच्चों के भोजन में हरी सब्जियों को अवश्य शामिल करना चाहिए।

मछली

मछली में कई प्रकार के विटामिन और प्रोटीन पाए जाते हैं। इन में प्रचुर मात्रा में विटामिन डी होता है जो कैल्शियम के अवशोषण के लिए आवश्यक है। मछली में ओमेगा-3 पाया जाता है जो त्वचा, बाल व दिल के लिए लाभदायक होता है।

सूखे मेवे और बींस

बादाम, मेवे ,सूरजमुखी के बीज , तिल आदि कैल्शियम के से भरपूर होते हैं। इसलिए आपको अपने बच्चों के भोजन में इन्हें अवश्य शामिल करना चाहिए।

टोफू

टोफू में कैल्शियम की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। टोफू को आप सब्जियों ।चावल। स्नैक्स आदि के साथ में अपने बच्चों को दे सकती है । टोफू बहुत ही स्वादिष्ट होता है और बच्चों को बहुत पसंद आता है।

रागी

रागी में भरपूर मात्रा में कैल्शियम होता है और यह हड्डियों को कमजोर होने से बचाता है।

टमाटर

टमाटर में विटामिन K होता है और यह कैल्शियम का भी अच्छा स्रोत होता है।

सोयाबीन

सोयाबीन कैल्शियम का एक बहुत अच्छा स्रोत है। इसमें दूध के बराबर कैल्शियम पाया जाता है। यदि आपका बच्चा दूध पीने से मना भी करता है तो आपको दूध के विकल्प के रूप में सोयाबीन को उसके भोजन में जरूर शामिल करना चाहिए।

संतरा
संतरे में कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसमें मौजूद तत्व ना सिर्फ हड्डियों को मज़बूत बनाते हैं,बल्कि शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाते हैं।

विटामिन डी

विटामिन डी कैल्शियम के अवशोषण के लिए आवश्यक होता है, इसलिए बच्चों के लिए विटामिन डी बहुत जरूरी है।

No comments:

Post a Comment