घर में बनाएं कुछ नियम जिनका प्रत्येक बच्चे को पालन करना चाहिए -

घर में बनाएं कुछ नियम जिनका प्रत्येक बच्चे को पालन करना चाहिए -
House rules for kids that every child should follow



 यदि आपके घर में छोटे बच्चे हैं तो ऐसा अक्सर होता होगा कि घर की सभी चीजें अस्त व्यस्त रहती हो और आपकी बहुत सी कोशिशें करने के बाद भी आप की व्यवस्था और अनुशासन ठीक ना कर पा रही हों। ऐसे में आपको बच्चों के लिए कुछ नियम  बनाने चाहिए, जिनका पालन करके वे शिष्टाचार अनुशासन सीख सकें। घर में बच्चों के लिए कुछ नियम अवश्य बनाए जाने चाहिए, जिससे कि वे यह जान सके कि क्या करना सही है और किस प्रकार के व्यवहार ठीक नहीं है। सही तरह से नियम बनाकर आप व्यवहारिक परेशानियों को कम कर सकती हैं और अनुशासन में स्थिरता को बनाए रख सकती हैं।

 नियम बनाते समय ध्यान रखने योग्य बातें :-

आइए जानते हैं कुछ ऐसे तरीकों के बारे में जिनको नियम बनाते समय आप को ध्यान रखना चाहिए -

1- बच्चों को सकुशल व सुरक्षित रखने के लिए नियमों की आवश्यकता पड़ती है। लेकिन यदि आप उन्हें बहुत ज्यादा नियमों में बांधकर रखना चाहेंगी तो हो सकता है कि उनके विकास पर इसका प्रभाव पड़े।

2-  जितना संभव हो नियमों को बनाने में सकारात्मक भाषा का प्रयोग करें। जैसे- गाली मत दो, लिखने की जगह लिखें , सम्मानजनक भाषा का प्रयोग करो आदि ।

3-  जब भी आप बच्चों के लिए नियम बनाएँ तो अपने साथी व घर के बाकी सदस्यों की भी इसमें राय लें । साथ ही बच्चों को भी इसका हिस्सा बनाएं। इससे बच्चों को प्रेरणा मिलेगी।

4-  यदि आप चाहती हैं कि आपके बच्चे सभी नियमों का सही प्रकार से पालन करें तो आपके परिवार को एक टीम की भांति कार्य करना होगा। जैसे कि एक दूसरे के विचारों व कार्यों का सम्मान करना, एक दूसरे के कामों में हाथ बँटाना आदि। क्योंकि बच्चे अपने बड़ों को जो भी करते हुए देखते हैं वही करते हैं।

5-  नियमों को बनाने में स्पष्टता रखिए क्योंकि I अस्पष्ट लक्ष्य और नियम आसानी से टूट जाते हैं। बच्चों को समझाएं कि आप यह नियम किस उद्देश्य से बना रही हैं।

6-  बच्चे तभी इन नियमों का अच्छे से पालन कर पाएंगे जब आप उन्हें अक्सर इनके बारे में याद दिलाती रहेंगी। इसके लिए आप सभी नियमों को एक कागज पर लिखकर फ्रिज पर या ऐसी जगह लगा सकती हैं  जहाँ  बच्चे आसानी से पढ़ सके ।

7- आप बच्चों की उम्र को ध्यान में रखकर ही नियम बनाएं। यदि आपके बच्चों में ज्यादा उम्र का अंतर है तो ऐसे नियम बनाए जो कि उनकी आयु और उनके विकास के स्तर के अनुरूप हो।

8- जब भी बच्चे किसी नियम का पालन अच्छे से करें तो उनकी प्रशंसा करें। इससे उन्हें प्रेरणा मिलेगी।

9- समय-समय पर नियमों में कुछ बदलाव करके उनमें सुधार लाती रहे।

10- यदि आप से कभी कोई गलती हो जाए या फिर कोई नियम टूटे तो उसकी जिमेदारी लें । बच्चों को नीचा दिखाने की या बहाने बनाने की कोशिश ना करें, क्योंकि अगर आप ऐसा करेंगे तो बच्चे भी नियम तोड़ेंगे।

 बच्चों के लिए घर में बनाए जाने वाले नियम :-

 बच्चों में शिष्टाचार व अनुशासन बनाए रखने के साथ-साथ उनकी सुरक्षा के लिए भी ज़रूरी  होते हैं। आइए जानते हैं कि आप को बच्चों के लिए किस प्रकार के नियम बनाने चाहिए-

 बच्चों की सुरक्षा के लिए नियम 

सबसे पहले आपको वह नियम बनाने हैं जो कि बच्चों की भावनात्मक व शारीरिक सुरक्षा के लिए अहम हैं। जैसे कुर्सिया व बेड पर न कूदना, चलती सड़क पर ना भागना, जब कोई घर पर ना हो तो दरवाजा न खोलना, सबसे प्यार से बात करना और अपनी बात को कैसे दूसरों के सामने रखा जाए, आप यह भी बच्चों को बताएं। भावात्मक सुरक्षा नियम(emotional safety rules) बच्चों को दूसरे लोगों से जुड़ने में मदद करते हैं।

 बच्चों में स्वस्थ आदत डालने के नियम

 जब बच्चों की प्रतिदिन की दिनचर्या ठीक प्रकार से निर्धारित होती है तब वे सभी कार्यों को बिल्कुल सही तरीके से कर पाते हैं। इसलिए आप को बच्चों के लिए ऐसे नियम बनाने चाहिए जिनसे कि उनमें अच्छी आदतों का विकास हो। जैसे- सोने से पहले ब्रश करना, खाना खाने से पहले और बाद में हाथों को धु ल ना , कपड़े खिलौनों को सही जगह पर रखना, बाहर खेल के आने के बाद हाथ पैरों को धोना। बच्चों की अच्छी आदतों से आपकी परेशानियां व काम भी कम हो जाते हैं। क्योंकि तब बच्चों को पता होता है कि उन्हें कब क्या करना है।

 नैतिकता से संबंधित नियम

आपका बच्चा बड़े होकर भविष्य में कैसा व्यक्ति बनेगा इसमें नैतिकता एक अहम भूमिका निभाती है। इसलिए आपको ऐसे नियम बनाने चाहिए जिससे आपके बच्चों में नैतिक गुणों का भी विकास हो। आप कुछ नियम बना सकती हैं, जैसे- हमेशा सच बोलो, गलती होने पर माफी मांगो आदि। बच्चे आपके द्वारा बनाए गए नियमों का पालन किस प्रकार करेंगे, इसमें भी नैतिकता का प्रभाव पड़ता है। आप किस प्रकार का व्यवहार करती हैं, यह सबसे महत्वपूर्ण होता है क्योंकि आप ही अपने बच्चों के लिए एक आदर्श उदाहरण प्रस्तुत कर सकती हैं। आपके नैतिक मानकों के अनुसार ही बच्चे भी व्यवहार करते हैं इसलिए इस बात का ध्यान रखें। क्योंकि बच्चे आपके द्वारा सिखाई हुई बातों से ज्यादा आपके व्यवहार से शिक्षा लेते हैं।

 सामाजिक कौशल से संबंधित नियम

 बच्चों के अच्छे विकास के लिए सामाजिक कौशल अत्यंत महत्वपूर्ण है। आप को बच्चों के लिए ऐसे नियम बनाने चाहिए जिनसे उनके इस कौशल का विकास हो और उन्हें अपने आसपास के लोगों द्वारा प्रशंसा और प्यार मिले। जैसे- अपने भाई बहनों के साथ खिलौने  बांटकर खेलना, दूसरों को भी खेलने का मौका देना, दूसरे व्यक्ति के कमरे में जाते समय दरवाजा खटखटाना आदि।
 थोड़े बड़े बच्चों के लिए आप नियम बना सकती हैं, जैसे- खाना खाते समय फोन का प्रयोग न करें, सोते समय बच्चों को कमरे में स्मार्टफोन ना ले जाने दे। इससे आप बच्चों के स्मार्टफोन व कंप्यूटर के अत्यधिक प्रयोग को कम कर पाएंगी।

 बच्चों को बाहरी दुनियाँ के लिए तैयार करने के नियम

 बच्चों के लिए ऐसे नियम बनाए बनाने की आवश्यकता है जो उन्हें जिम्मेदार बनाएँ । ऐसे नियम बनाएँ  जिनसे वे जीवन कौशल को सीखें, जो कि उन्हें बड़े होने पर काम आएंगे। बच्चों के कौशलों का विकास करने के लिए आप आपके द्वारा बनाएँ गए नियम व की गई मदद आपके बच्चे के स्वभाव पर निर्भर करती है। कुछ बच्चे अपने कार्य जिम्मेदारी से करते हैं जबकि कुछ बच्चों को अधिक नियमों व सहयोग की आवश्यकता होती है। आप बच्चों के लिए कार्य व पैसों से संबंधित कुछ नियम बना सकती हैं। आप उन्हें कुछ काम दें जिसको करने के बाद आप उन्हें जेब खर्च उपहार के रूप में दे सकती हैं।

    नियम चीजों को व्यवस्थित रखने व आपके बच्चे के विकास में मदद करते हैं। हर घर के नियम अलग होते हैं। आपके घर के नियम आपके विश्वास, नैतिक  मूल्यों, आपकी परिस्थिति व बच्चों की परिपक्वता व उनकी आवश्यकताओं से प्रभावित हो सकते हैं।

No comments:

Post a Comment