क्या tiktok बच्चों के लिए सुरक्षित है? Is tiktok safe for kids?

क्या tiktok बच्चों के लिए सुरक्षित है?

 आज के समय में इंटरनेट पर बहुत सी सोशल नेटवर्किंग साइट मौजूद हैं ,जिनमें से एक टिक टॉक भी है। छोटे बच्चों के बीच जिस तरह से टिक टॉक अपनी पहुंच बना रहा है,इसके चलते माता-पिता और अभिभावकों भी परेशान हैं कि क्या टिक टॉक उनके बच्चों के लिए सुरक्षित है?

 क्या है टिक टॉक?

 टिक टॉक एक मोबाइल ऐप है जोकि Musically का बदला हुआ एक रूप है। इस एप से आप अपनी बनाई गई छोटी छोटी वीडियो शेयर कर सकते हैं। यह सभी वीडियो 15 से 60 सेकंड की होती है। इस ऐप के जरिए यूज़र कई तरह से अपनी वीडियो बना सकते हैं। जैसे- lip sink, गाना गाते हुए, नाचते हुए या फिर कोई डायलॉग बोलते हुए और उन्हें ऐप पर अपलोड भी कर सकते हैं। टिक टॉक एप पर user कई प्रकार के फिल्टर, स्टीकर्स का प्रयोग करते हैं और इसमें यूजर्स के लिए कई प्रकार के वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर के विकल्प भी होते हैं ,जिनसे वे खुद भी कंटेंट को तैयार कर सकते हैं।

Tiktok का प्रयोग करने के लिए बच्चों की सही उम्र -

 आज के समय में सभी अपने स्मार्टफोन से कोई भी ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। टिक टॉक एप पर हर तरह का कंटेंट मौजूद है,जिसमें से कुछ ऐसा कंटेंट भी है जो कि छोटे बच्चों के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है और उन पर बुरा असर भी डाल सकता है। Public streaming, hashtag और गाने के स्पष्ट बोलो के माध्यम से इस ऐप पर बहुत ही मैच्योर और एडल्ट कंटेंट तक भी यूजर की पहुंच बन जाते है।

 टिक टॉक के नियमों व शर्तों के अनुसार और गूगल प्ले स्टोर पर इसकी इस ऐप की रेटिंग के अनुसार इसे 13 वर्ष  या उससे अधिक आयु वाले बच्चों के लिए सही बताया गया है। ऐसे में माता-पिता के लिए यह जानना ज़रूरी है कि 12 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए यह है बिल्कुल भी सही नहीं है। आपको पैरेंटल कंट्रोल फीचर का प्रयोग करके इसे अपने बच्चों के लिए और भी सुरक्षित बनाना चाहिए।

 टिक टॉक का बच्चों पर पड़ने वाला बुरा प्रभाव 

कुछ ऐसी ज़रूरी बातें भी हैं, जिनको बच्चों के माता-पिता को जानना आवश्यक है -

(1) बच्चे बुरी संगति के शिकार हो सकते हैं-

 टिक टॉक के माध्यम से कोई भी यूज़र दुनियाँ के किसी भी अन्य यूजर से संपर्क कर सकता है और यह बात ही बच्चों के लिए मुख्य समस्या है। टिक टॉक के माध्यम से आपका बच्चा किसी भी अपरिचित व्यक्ति के संपर्क में आ सकता है। टिक टॉक एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जिस पर सभी लोग अपनी प्रतिभा को दिखाने के लिए उत्सुक रहते हैं। इससे हो सकता है कि आपके बच्चे भी किसी की बातों में आकर बुरी संगति में पड़ जाए।

(2) बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है -

 इस ऐप पर दिखने वाले कंटेंट में कुछ कंटेंट ऐसा भी होता है जो कि बच्चे के मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव डालता है। यह कंटेंट बहुत ही व्यक्तिगत व संवेदनशील हो सकता है,जिससे इसे देखने वालों के लिए यह न तो अच्छा होता है और साथ ही इसमें लिखे गए कमेंट भी बच्चों को स्वयं को हानि पहुंचाने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

(3) ऐप की प्रकृति बच्चों में चिंता बढ़ाती है -

यह एक ऐसा ऐप है जिस पर कोई भी व्यक्ति अपनी रचनात्मकता और प्रतिभा को दिखा सकता है और उसे लोगों से प्रोत्साहन भी मिलता है। लेकिन इस प्रोत्साहन के लिए और पहले से बेहतर करने के तनाव के कारण कई बार बच्चे चिंतित हो जाते हैं और इससे वे डिप्रेशन का शिकार भी हो सकते हैं। कई बार ऐसा तब होता है, जब उन्हें अच्छा करने पर भी प्रसिद्धि नहीं मिल रही होती है।

(4) यूज़र साइबर बुलिंग का शिकार हो सकते हैं-

 टिक टॉक पर जब यूजर द्वारा बनाए गए वीडियो ज्यादा मज़ेदार और अच्छे नहीं होते हैं तो उन्हें 'cringy' कहा जाता है। इससे लोगों को मज़ाक़ उड़ाने और उन्हें डराने धमकाने का अच्छा बहाना मिल जाता है।इस ऐप से लोग एक से ज्यादा अकाउंट बनाकर दूसरे लोगों को bully कर सकते हैं, जिन्हें वह पसंद नहीं करते। टिक टॉक पर अधिकतर trolling, reaction feature के माध्यम से की जाती है।

(5)  यूजर का डाटा असुरक्षित रहता है- 

 पिछले वर्ष Federal Trade Commission के द्वारा टिक टॉक पर Children's Online Privacy Protection Act(COPPA) के तहत 5.7 मिलियन डॉलर का जुर्माना लगाया गया था और यह इस एक्ट के तहत बच्चों की असुरक्षा पर लगाया जाने वाला सबसे अधिक जुर्माना था। कानून के अनुसार 13 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के डाटा की सुरक्षा से संबंधित tiktok द्वारा कोई भी ठोस कदम नहीं उठाए गए थे।


 माता पिता के लिए टिक टॉक पर बच्चों की सुरक्षा के उपाय -

छोटे बच्चों के लिए किसी भी सोशल नेटवर्किंग साइट का प्रयोग नुकसानदेह हो सकता है। लेकिन बड़ों की निगरानी में एप का सुरक्षित प्रयोग किया जा सकता है। अगर आपका बच्चा 13 वर्ष से अधिक है ,तभी उसे टिक टॉक पर खुद का अकाउंट बनाने दें। यदि आपको ऐसा लगता है कि टिक टॉक आपके बच्चों के लिए सही नहीं है तो आप उनसे बच्चों से ऑनलाइन सुरक्षा और कंटेंट से संबंधित बातों पर चर्चा करें। 

जब आप टिक टॉक पर साइन अप करते हैं तो उसकी निजता(privacy) ही पब्लिक होती है। जिसका मतलब है कि आपके वीडियो को कोई भी देख सकता है और कमेंट कर सकता है। इसके साथ ही वह आपको मैसेज भी भेज सकता है और आपकी लोकेशन का प्रयोग भी कर सकता है। इसीलिए माता-पिता को अपने बच्चों के अकाउंट की Privacy settings को बदल देना चाहिए। इससे आपके बच्चों के वीडियो केवल वही लोग देख पाएंगे, जिन्हें आप जानते हैं। एक बार सुरक्षा के सभी मापदंडों को सुनिश्चित करने के बाद ही आप टिक टॉक अकाउंट के प्रयोग को लेकर आश्वस्त हो सकते हैं कि यह आपके बच्चों के लिए ठीक है या नहीं।

No comments:

Post a Comment